Page Nav

Grid

GRID_STYLE

True

TRUE

Hover Effects

TRUE

Pages

{fbt_classic_header}

Breaking News:

latest

advertisement

Massage for you

दोस्तों, अब आपके लिए एक नया ब्लॉग मैंने अपडेट कर दिया है। इस ब्लॉग में आप सिर्फ शारदा सिन्हा जी के गाए हुए गाने ही सुनेंगे। उनके गाए गीत भोजपुरी व मैथिली दोनों ही भाषाओं के साथ हिन्दी फिल्मों में गए गीत भी शामिल रहेंगे। साथ ही साथ इस पेज पर स्पेशल रूप से विवाह गीतों की एक अलग श्रृंखला भी दी जाएगी जिसमें शादी विवाह में गाए जाने वाले विभिन्न मिजाज व मूड के गाने आप सुन सकेंगे। फिलहाल इस ब्लॉग का लिंक इस प्रकार है: https://shardasinhageet.blogspot.com/


Friends, now I have updated a new blog for you. In this blog you will only listen to the songs sung by Sharda Sinha ji. Along with the songs sung by him in both Bhojpuri and Maithili languages, songs sung in Hindi films will also be included. Along with this, a separate series of marriage songs will also be specially given on this page, in which you will be able to listen to the songs of different moods and moods sung in marriage marriage. Currently the link of this blog is as follows: https://shardasinhageet.blogspot.com/

Ads Place

मन में पिरितिया पिरा गइल बा Man Me Piritiya Pira Gael Baa

फिल्म : कब अइबू अंगनवा हमार गायक: कल्पना गीतकार: संगीतकार : धनंजय मिश्रा हूं हूं हू लां लां लां लां  मन में पिरितिया ...



फिल्म : कब अइबू अंगनवा हमार
गायक: कल्पना
गीतकार:
संगीतकार : धनंजय मिश्रा


हूं हूं हू लां लां लां लां 
मन में पिरितिया पिरा गइल बा
मन में पिरितिया पिरा गइल बा
हमर मेला में झुलनी हेरा गइल बा
हमर मेला में झुलनी हेरा गइल बा
मन में पिरितिया पिरा गइल बा
मन में पिरितिया पिरा गइल बा
हमर मेला में झुलनी हेरा गइल बा
हमर मेला में झुलनी हेरा गइल बा

हवा बनके नदी के हिलावत रही
हवा बनके नदी के हिलावत रही
अपना ओढ्नी के जी भर उड़ावत रही
अपना ओढ्नी के जी भर उड़ावत रही
संग छूटल उदासी से टूटल जीया
दिल पुकारे कहां गईल आपन पिया
अपना छहिंया से जियरा डेरा गइल बा
अपना छहिंया से जियरा डेरा गइल बा
हमर मेला में झुलनी हेरा गइल बा
हमर मेला में झुलनी हेरा गइल बा

याद आइल नदी के किनारे चलल
याद आइल नदी के किनारे चलल
फूल के बाग में रोज खुल के मिलल
फूल के बाग में रोज खुल के मिलल
ओही गोदी में मीठ नींद आवत रहे
बस नजर से नजर बतियावत रहे
अब त उहे नजर से गिरा गइल बा
अब त उहे नजर से गिरा गइल बा
हमर मेला में झुलनी हेरा गइल बा
हमर मेला में झुलनी हेरा गइल बा






No comments


Your Choice Here

close