Page Nav

Grid

GRID_STYLE

True

TRUE

Hover Effects

TRUE

Pages

{fbt_classic_header}

Breaking News:

latest

advertisement

Massage for you

दोस्तों, अब आपके लिए एक नया ब्लॉग मैंने अपडेट कर दिया है। इस ब्लॉग में आप सिर्फ शारदा सिन्हा जी के गाए हुए गाने ही सुनेंगे। उनके गाए गीत भोजपुरी व मैथिली दोनों ही भाषाओं के साथ हिन्दी फिल्मों में गए गीत भी शामिल रहेंगे। साथ ही साथ इस पेज पर स्पेशल रूप से विवाह गीतों की एक अलग श्रृंखला भी दी जाएगी जिसमें शादी विवाह में गाए जाने वाले विभिन्न मिजाज व मूड के गाने आप सुन सकेंगे। फिलहाल इस ब्लॉग का लिंक इस प्रकार है: https://shardasinhageet.blogspot.com/


Friends, now I have updated a new blog for you. In this blog you will only listen to the songs sung by Sharda Sinha ji. Along with the songs sung by him in both Bhojpuri and Maithili languages, songs sung in Hindi films will also be included. Along with this, a separate series of marriage songs will also be specially given on this page, in which you will be able to listen to the songs of different moods and moods sung in marriage marriage. Currently the link of this blog is as follows: https://shardasinhageet.blogspot.com/

Ads Place

कतहु भी जैइह ना भूलिह Katahu Bhi Jaieh Bhulih---Bhojpuri Film Lyrics

Katahu Bhi Jaieh Bhulih Is Bhojpuri Film Dildaar Se Dil Lagal  Song. Sung By Alok Kumar . This Song Is Written By Rajesh Mishra  While Musi...



Katahu Bhi Jaieh Bhulih Is Bhojpuri Film Dildaar Se Dil Lagal Song. Sung By Alok Kumar. This Song Is Written By Rajesh Mishra While Music Composed By Om Jha. It’s Released By SRK Music.


फ़िल्म: दिलदार से दिल लागल (Film: Dildaar Se Dil Lagal)

गायक: आलोक कुमार (Singer: Alok Kumar)

गीतकार: राजेश मिश्रा (Lyrics: Rajesh Mishra)

संगीतकार: ओम झा (Music: Om Jha)

लेबल: एसआरके म्यूजिक (Lable: SRK Music)



हो हो हो हो आं आं आं

चाहे कलेक्टर डीएम बनिह इंजीनियर औ डॉक्टर हो

केतनो बड़का आदमी बनिह जज चाहे बैरिस्टर हो 

चाहे कलेक्टर डीएम बनिह इंजीनियर औ डॉक्टर हो

केतनो बड़का आदमी बनिह जज चाहे बैरिस्टर हो 

चाहे कमाए चली जैइह तू 

चाहे कमाए चली जैइह तू  हो 

सात समुन्दर फान के

कतहु भी जैइह ना भूलिह आपन गांव के 

कतहु भी जैइह ना भूलिह आपन गांव के 


चमक दमक जब मिली शहर के

भूलिह ना खुशबू माटी के

हैलोजिन मर्करी के आगे

भूलिह ना ढिबरी बाती के

आपन खेत खलिहान खेतवाला मैदान

चना मटर और गेहुआँ के हरियर सीमान

छपक छपक जे नदी में नहैईल याद रखिह हरी गांव के

कतहु भी जैइह ना भूलिह आपन गांव के 

कतहु भी जैइह ना भूलिह आपन गांव के 


हो हो हो आं आं आं

मान तानी पइसा से ही हर एक लालसा पूरी ह

पईसा से भी ऊपर आपन घर परिवार जरूरी ह

कल के गंजी और जांघिया पर खेलेला कबड्डी

फगुआ के रंग उरावता होली धुरण्डी

मंदिर के बाजत घण्टी बुढ़वा पीपल छाँव के

कतहु भी जैइह ना भूलिह आपन गांव के 

कतहु भी जैइह ना भूलिह आपन गांव के 




No comments


Your Choice Here

close