]]>


Searching...
Saturday, January 23, 2010

डिम्पल डिस्को जाके

हाथ में मोबाइल इनके ओठन पे स्माइल
बगल सामने ऊपर नीचे मारेली स्टाइल-२
पास पड़ोसी सब लोगन के निकले लागल दम,दम,दम
बेबी बियर पीके-२ नाचे लगली छमक छमक छम-२




वाह से बबुनी गजब के झटका भइली खूब उतान हो
नाक पे गुस्सा होठे पे गाली चलेली जइसे बाण हो
उल्टी टोपी काला चश्मा गोल्ड फ्लैक सिगरेट बा
पाके में त लगने बाड़ी शादी में अब ही लेट बा
ऊ गं गण्पति गच्छ माही अच्छा बाटे एही हवा बहत रहे
कबो कबो ताक देब, एहरो ओरिया
चाहे कमीना कह चाहे पापिया
रर्म कहलें गजब बा कलयुग, मंगरु भरे हुंकारी
पंडा जी भी बुझे लगले फैशन के बेमारी-२
देखले एक्सन बुधई बाका, ब्लड प्रेशर भईल कम,

बेबी———
तंग कपड़ा के मैक्सी तन पे, बॉब कट में बालबा
ताल ठोक के लई के चीखी, यार पटाखा माल बा
खाके पान बनारसवाला अइली मस्त बहार में
करे लगली प्यार वफा के लेक्चर मस्त बहार में
प्यार जानते हैं आपलोग क्या होता है
हां जानते हैं आपलोग वही जो लैला मजनूं ने किया था
वही जो हम आपसे करते हैं
ऐ बुढऊ क्या बात है तबीयत ठीक बा न तोहार
चौराहा के चारी और नैना बाण चलवली
लहंगा चोली सूट शर्ट सब गिफ्ट में तुरते पवली-२
बाजल इनके मुंह से सीटी फाटल एटम बल,

बेबी...........
बड़ बुजुर्ग के माथ पसीना, जी में हाला पानी
लइका घुमे इनके पीछे इसके चले किसानी
जेहरे देखें लोग दिखेलें इन्हीं के जोगाड़ में
केहू उनसे हाथ मिलावे केहू निरखे आड़ में
बड़ी मजा बड़ी बाटे आनंद बा मिललबा
कहु त तोर पनघट चल के झरेलवा
कहीं नशा न लागे टेंसन नइखे भारी
मिला तो मिला नइ तो फिर से ब्रह्मचारी
गुलशन कहके डार्लिंग कहके मारे लगली ताली
कहे मनोज के कैसेट दे द टाइम बाट बाटे खाली
इनके वाइफ के फिर मिजाज गड़बड़ भइल गरम
बेबी...................................


0 comments:

Post a Comment

loading...

 
Back to top!