Page Nav

Grid

GRID_STYLE

True

TRUE

Hover Effects

TRUE

Pages

{fbt_classic_header}

Header Ad

Breaking News:

latest

Ads Place

जब तक पूरे ना हो फेरे सात Jab Tak Poore Na Ho Phere Saat

गायिका : हेमलता  गीत एवं संगीत : रवीन्द्र जैन फिल्म : नदिया के पार  बबुआ हो बबुआ पहुना हो पहुना ओ......................




गायिका : हेमलता 
गीत एवं संगीत : रवीन्द्र जैन
फिल्म : नदिया के पार 

बबुआ हो बबुआ पहुना हो पहुना
ओ...........................
जब तक पूरे ना हो फेरे सात -२
तब तक दुलहिन नहीं दूल्हा की
तब तक दुलहिन नहीं बबुआ की
ना... जब तक पूरे ना हो .....

अबहीं तो बबुआ पहली ही भंवर पड़ी है
अब ही तो पहुना दिल्ली दूर बड़ी है
हो.. पहली ही भंवर पड़ी है
दिल्ली दूर बड़ी है
करनी होगी तपश्या सारी रात 
जब तक ....................
तब तक .........................

जैसे जैसे भंवर पड़े मन अंगना को छोड़े
एक एक भांवर नाता अनजनों से जोड़े
..मन घर अंगना को छोड़े
....अनजानों से नाता जोड़े
सुख की बदरी आंसु की बरसात
जब तक पूरे ......................
तब तक ..........................

बबुआ हो बबुआ पहुना हो पहुना
सात फेरे करो बबुआ भरो सात बचन भी-२
ऐसे कन्या ऐसे अर्पण कर दे तन भी मन भी-२
उठो उठो बबुनी देखो देखो धु्रवतारा
धु्रवतारे सा हो अमर सुहाग तिहारा
हो...देखो देखो धु्रवतारा 
अमर सुहार तिहारा
सातों फेरे सात जन्मों का साथ
जब तक पूरे ना हो..........
तब तक .......................







No comments



close