Searching...
Sunday, June 19, 2016

सब दिन होत न एक समाना


गायक : मदन राय
संगीत : भरत शर्मा व्यास
गीत : भोजपुरी, निर्गुन, 


सब दिन होत न एक समाना 
सब दिन होत न एक समाना 
सब दिन होत न एक समाना 
सब दिन होत न एक समाना 
सब दिन होत न एक समाना 
सब दिन होत न एक समाना 
सब दिन होत न एक समाना 

एक दिन राजा हरिश्चंद जी कंचन भरे खजाना
जी कंचन भरे खजाना
एक दिन राजा हरिश्चंद जी कंचन भरे खजाना

जी कंचन भरे खजाना
एक भरे डोम घर पानी 
एक भरे डोम घर पानी
मरघट रहे निशाना
सब दिन होत न एक समाना 
सब दिन होत न एक समाना 
सब दिन होत न एक समाना 

एक दिन राजा रामचंद्र जी चढ़ के जात विमाना
जी चढ़ के जात विमाना
एक दिन राजा रामचंद्र जी चढ़ के जात विमाना
जी चढ़ के जात विमाना
एक दिन उनका बनवास भयो
एक दिन उनका बनवास भयो
दशरथ तजे पराना
साधो सब दिन होत न एक समाना 
सब दिन होत न एक समाना 
सब दिन होत न एक समाना 

एक दिन अर्जुन महाभारत में जीते इंद्र समाना
जी जीते इंद्र समाना
एक दिन अर्जुन महाभारत में जीते इंद्र समाना
जी जीते इंद्र समाना
एक दिन भीलन लूट गोपिका
एक दिन भीलन लूट गोपिका
वही अर्जुन अहिबाना
सब दिन होत न एक समाना 
सब दिन होत न एक समाना 

एक दिन बालक भयो गोदी मां एक दिन भयो सायाना
जी एक दिन भयो सायाना
एक दिन बालक भयो गोदी मां एक दिन भयो सायाना
जी एक दिन भयो सायाना
एक चिता जरे मरघट पे 
एक चिता जरे मरघट पे 
धुंआ जात असमाना 
सब दिन होत न एक समाना 
सब दिन होत न एक समाना 
सब दिन होत न एक समाना 

कहत कबीर सुनो भाई साधो यह पद है निर्बाना 
जी यह पद है निर्बाना 
यह पद का जो अर्थ लगैइहैं 
यह पद का जो अर्थ लगैइहैं 
होनहार बलबाना
सब दिन होत न एक समाना 
सब दिन होत न एक समाना 
सब दिन होत न एक समाना 
सब दिन होत न एक समाना 
सब दिन होत न एक समाना 
सब दिन होत न एक समाना 

0 comments:

Post a Comment

loading...

advertisement

 
Back to top!