Searching...
Tuesday, December 17, 2019

ओ सखिया, ओ सखिया कैसे के


फिल्म- मोरे मन मितवा
गायक - सुमन और कोरस
गीत - हरिश्चंद्र प्रियदर्शी
संगीत- दत्ताराम



ओ सखिया, ओ सखिया कैसे के
गगरिया भरियो तोरी भरियो तोरी
हे डगरिया सूनी डर लागे ना
गगरया भरयो तोरी, डगरिया सूनी डर लागे ना
ओ सखिया कैसे के गगरिया भरियो तोरी,
डगरिया सूनी डर लागे ना
गगरिया भरियो तोरी, डगरिया सूनी डर लागे ना
चार टके की ओढ़े चदरिया, बात बोले अनमोला
सहरी सजना बड़ा सयाना हे- रामा
सहरी सजना बड़ा सयाना हे रामा
कनखी से ताकै मोरी-ओरी, हो डगरिया सूनी डर लागे ना
लाख टके की मोरी चुनरिया बालम के मन अटके
हो बालम के मन अटके ।

लाख टके की मोरी चुनरिया बालम के मन अटके ।
पनघट-पनघट प्यासल भटकै हे रामा
पनघट-पनघट प्यासल भटकै हे रामा।
अँखिया मिलावै चोरी-चोरी,
हे डगरिया सूनी डर लागेना
हे डगरिया सूनी डर लागेना
जिनकर मद में मातल झूमै नाचै मन मतवाला ।
हो नाचै मन मतवाला ।
जिनकर मद में मातल झूमै नाचै मन मतवाला ।
मरम न समझे दरद न जानै हे रामा ।
मरम न समझे दरद न जानै हे रामा ।

दिलवा में पैसई जोरा-जोरी
गगरिया भरियो तोरी, डगरिया सूनी डर लागे ना ।
ओ सखिया कैसे के गगरिया भरियो ।
डगरिया सूनी डर लागे ना
डगरिया सूनी डर लागे ना ।

0 comments:

Post a Comment

loading...

advertisement

 
Back to top!