Searching...
Tuesday, May 26, 2015

आब कहु मन केहन करैया

गायक---सुरेश पंकज


धरि दरिभंगा दोहरी अंगा
किएक नाच नचै छी नंगा
धरि दरिभंगा दोहरी अंगा
किएक नाच नचै छी नंगा
टुकुर टुकुर सब लोग देखैया
आब कहु मन केहन करैया
आब कहु मन केहन करैया
आब कहु मन केहन करैया

पहिले पहिल ससुराल हम गेलौं
दूध दही से खूब नहेलौं
पहिले पहिल ससुराल हम गेलौं
दूध दही से खूब नहेलौं
भात मिलल बसमतिया चाऊरक
माछ घी से खूब झमैलौं
भात मिलल बसमतिया चाऊरक
माछ घी से खूब झमैलौं
बोलै लागलेन साली सरहज
ओझा सासुर केहन लगैया
आब कहु मन केहन करैया
आब कहु मन केहन करैया
आब कहु मन केहन करैया

दोसर बेरक हाल नै पूछु
बाजतै शरम लगैया
भात मिलल कमतोजिया चाऊरक
तीसी तेलक झांस आवैया
दोसर बेरक हाल नै पूछु
बाजतै शरम लगैया
भात मिलल कमतोजिया चाऊरक
तीसी तेलक झांस आवैया
मन अछि दही से हो खैतौं
बाजते हमर ठोर पकैया
मन अछि दही से हो खैतौं
बाजते हमर ठोर पकैया
आब कहु मन केहन करैया
आब कहु मन केहन करैया
आब कहु मन केहन करैया


तेसर बेर पहुंचलौं जेखने
सुख्खल चूरा भेटल तेखने
बाजलैन सास सुनु ओ ओझा
पी गेल दूध बिलाई ऐखने
तेसर बेर पहुंचलौं जेखने
सुख्खल चूरा भेटल तेखने
बाजलैन सास सुनु ओ ओझा
पी गेल दूध बिलाई ऐखने
सुख्खल चूरा गरल पेट में
सुख्खल चूरा गरल पेट में
मीठ मीठ दरद करैया
आब कहु मन केहन करैया
आब कहु मन केहन करैया
आब कहु मन केहन करैया
धरि दरिभंगा दोहरी अंगा
किएक नाच नचै छी नंगा
धरि दरिभंगा दोहरी अंगा
किएक नाच नचै छी नंगा
टुकुर टुकुर सब लोग देखैया
आब कहु मन केहन करैया


0 comments:

Post a Comment

loading...

advertisement

 
Back to top!