Page Nav

Grid

GRID_STYLE

True

TRUE

Hover Effects

TRUE

Pages

{fbt_classic_header}

Header Ad

Breaking News:

latest

Ads Place

जय जय भैरवि असुर भयाउन Jai Jai Bhairavi Asur Bhayaun

  जय जय भैरवि असुर भयाउनि पशुपति भामिनी माया। सहज सुमति वर दिय हे गोसाउनि अनुगति गति तुअ पाया।।-2 बासर रैनि सवा...


 
जय जय भैरवि असुर भयाउनि
पशुपति भामिनी माया।
सहज सुमति वर दिय हे गोसाउनि
अनुगति गति तुअ पाया।।-2

बासर रैनि सवासन शोभित-2
चरण चन्द्र्रमणि चूड़ा।
कतओक दैत्य मारि मुंह मेललि
कतओ उगिलि करु कूड़ा।।
जय जय भैरवि असुर भयाउनि....

सामर वरण नयन अनुंरजित-2
जलद जोग फुलकोका।
कट कट विकट ओठ पुट पांड़रि
लिधुर फेर उठ फोका।।
जय जय भैरवि असुर भयाउनि....

घन-घन-घनन घुघुरू कत बजाए-2
हन-हन कर तुअ काता।
विद्यापति कवि तुअ पद सेवक
पुत्र बिसरू जनु माता।।
जय जय भैरवि असुर भयाउनि......






No comments



close