Searching...
Monday, June 1, 2015

चंद्रमा उतरल गगन सं


गायक ---हेमकांत झा
चंद्रमा उतरल गगन सं
चांदनी कें जगाओ यो....
चंद्रमा उतरल गगन सं
चांदनी कें जगाओ यो....

रंग रग सठ रागिनी
मिलन केर मधुयामिनी
रंग रग सठ रागिनी
मिलन केर मधुयामिनी
आसमान में आय करिए
पिया सं नेह लगाओ यो
आसमान में आय करिए
पिया सं नेह लगाओ यो
चंद्रमा उतरल गगन सं
चांदनी कें जगाओ यो....

किरन के रसधार में
स्वप्न केर संसार में
किरन के रसधार में
स्वप्न केर संसार में
ज्योति बरसे आय रिमझिम
ज्योति बरसे आय रिमझिम
चाहू त दूधे नहाओ यो
चंद्रमा उतरल गगन सं
चांदनी कें जगाओ यो....

केहन अप रूप ई
अछि सिंगार अनूप ई
केहन अप रूप ई
अछि सिंगार अनूप ई
पान पान मखान सोभित
मैथिलि के जगाओ यो
पान पान मखान सोभित
मैथिलि के जगाओ यो
चंद्रमा उतरल गगन सं
चांदनी कें जगाओ यो....

0 comments:

Post a Comment

loading...

advertisement

 
Back to top!