Searching...
Monday, May 2, 2016

नींन छोडू भैया,जागु भैया


गायक : हरिनाथ झा
एल्बम : पारंपरिक, मैथिली, भजन, गजल


हूं हूं हूं हां हां हां होओ होओ होओ होओ होओ हां हां हां
नींन छोडू भैया,जागु भैया, सुतल मन के जगाओ
सुतल मन के जगाओ, प्रभु के भजन सुनाओ
सुनाओ भैया, प्रभु के भजन सुनाओ
नींन छोडू भैया,जागु भैया, सुतल मन के जगाओ
सुतल मन के जगाओ, प्रभु के भजन सुनाओ
सुनाओ भैया, प्रभु के भजन सुनाओ
नींन छोडू भैया,जागु भैया
होओ होओ होओ होओ होओ

आध जनम नींन में गमाओल
चैन न जीवन में पाओवल
हो रामा हो हो रामा हो हो रामा हो हो रामा हो 
आध जनम नींन में गमाओल
चैन न जीवन में पाओल
आध पहर रतिया तक, पत्नीक  के बतिया में
आध पहर रतिया तक, पत्नीक  के बतिया में
भोर मन प्रभु में लगाऊ
भोर मन प्रभु में लगाऊ
प्रभु के भजन सुनाऊ, सुनाऊ भैया
प्रभु के भजन सुनाऊ,
नींन छोडू जागु भैया, हो

सपना सन राम से नै जानूं
हो जग केर मालिक सं मानूं
हो रामा हो हो रामा हो हो रामा हो हो रामा हो 
सपना सन राम से न जानूं
हो जग केर मालिक सं मानूं
जग केर मालिक जे, पटुआ पारिक से 
जग केर मालिक जे, पटुआ पारिक से 
हुनका जुनि बिसराऊ
हुनका जुनि बिसराऊ
प्रभु के भजन सुनाऊ, सुनाऊ भैया
प्रभु के भजन सुनाऊ,
नींन छोडू जागु भैया, होऽ

सोन रूप चानि आ रूपैया
संग किछु नै जाइत यो भैया
हो रामा हो हो रामा हो हो रामा हो हो रामा हो 
सोन रूप चानि आ रूपैया
संग किछु नै जाइत यो भैया
करमक धारा में, धरमक नारा हो
करमक धारा में, धरमक नारा हो
हृदय में दया के बसाऊ
हृदय में दया के बसाऊ
प्रभु के भजन सुनाऊ, सुनाऊ भैया
प्रभु के भजन सुनाऊ,
नींन छोडू जागु भैया, होऽ

वृद्ध मन आलस में डूबल
राम नाम चिंते में सुतल
हो रामा हो हो रामा हो हो रामा हो हो रामा हो 
वृद्ध मन आलस में डूबल
राम नाम चिंते में सुतल
उब डूब नैया हो, जौ न खेबैया हो
उब डूब नैया हो, जौ न खेबैया हो
राम नाम ध्यान में लगाऊ
राम नाम ध्यान में लगाऊ
प्रभु के भजन सुनाऊ, सुनाऊ भैया
प्रभु के भजन सुनाऊ
नींन छोडू भैया,जागु भैया, सुतल मन के जगाऊ
सुतल मन के जगाऊ, प्रभु के भजन सुनाऊ
सुनाऊ भैया, प्रभु के भजन सुनाऊ
नींन छोडू भैया,जागु भैया, सुतल मन के जगाऊ
नींन छोडू जागु भैया
हो रामा हो हो रामा हो हो रामा हो हो रामा हो 
हो रामा हो हो रामा हो हो रामा हो हो रामा हो 
प्रभु के भजन सुनाओ
बोलियो सियापति रामचंद्र की....जय



0 comments:

Post a Comment

loading...

advertisement

 
Back to top!